जानिए क्यों PM मोदी का मालदीप दौरा कई मायनों में था खास

82

नरेंद मोदी भारत के दुबारा pm बनने के बाद से है अपनी पडोसी प्रथम की नीती पर काम करना कर चुके है, और इसी के तेहत वो मालदीप दौरे पर निकल गए है,pm मोदी के यहाँ पहुचने पर उनका पारंपर‍िक तरीके से स्वागत किया गया.

उनकी मालदीप यात्रा से पहले ही मालदीव के विदेश मंत्री अब्दुल्ला शाहिद ने घोषणा की थी  कि प्रधानमंत्री मोदी को देश के सर्वोच्च सम्मान निशान इजुद्दीन से नवाजा जाएगा,और ये दुसरे देश के नेताओं को दिया जाने वाला सर्वोच्च सम्मान है,

और आपको बता दें कि प्रधानमंत्री मोदी को ये सम्मान देने का फैसला खुद मालदीप के राष्ट्रपति इब्राहिम मोहम्मद सोलिह ने किया था,और पूरे कार्यक्रम के दौरान राष्‍ट्रपति मोहम्‍मद सोलिह भी मौजूद रहे…गार्ड ऑफ ऑनर के दौरान भारत का राष्‍ट्रगान भी बजाया गया…फिर गार्ड ऑफ ऑनर के बाद प्रधानमंत्री ने मालदीव के प्रत‍िनि‍धि‍मंडल के साथ भी मुलाकात की. खुद ही मालदीव के राष्‍ट्रपत‍ि सोल‍िह ने उनका अपने नेताओं से परिचय कराया.सारे औपचारिक कार्यक्रमों के बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को मालदीव का सर्वोच्‍च नागर‍िक सम्‍मान निशान इज्‍जुद्दीन दि‍या गया…उन्‍हें ये सम्‍मान राष्‍ट्रपति मोहम्‍मद सोलिह ने दिया…और जब पीएम मोदी और मालदीव के राष्ट्रपति गले मिले तो दोनों देशों के रिश्तों में गर्मजोशी साफ दिखी।

इस सम्मान पाने के बाद pm मोदी ने कहा आज मुझे मालदीव के सर्वोच्च सम्मान से सम्मानित करके आपने मुझे ही नहीं बल्कि पूरे भारत को एक नया गौरव दिया है। निशान इज्जुदीन का सम्मान मेरे लिए हर्ष और गर्व का विषय है।ये सिर्फ मेरा सम्मान नहीं बल्कि ये दोनों देशों की दोस्‍ती और संबंधों का सम्‍मान है. और मैं इसे बड़ी विनम्रता के साथ सभी भारतीयों की ओर से स्वीकार करता हूं, अपने भाषण की समाप्‍त‍ि पर मोदी ने कहा, मालदीव और भारत की दोस्‍ती अमर रहे.

वैसे आपको बता दें कि pm मोदी का मालदीप दौरा कई मायनों में खास है,क्यों कि  भारत और मालदीव की बढती हुए दोस्ती से चीन की मुश्किलें भी धीरे धीरे बढ़ रही है क्यों की पीएम मोदी के शपथ ग्रहण में मालदीव के राष्ट्रपति भी शामिल हुए थे और इसके बाद मालदीव ने इंडिया फर्स्ट की नीति को अपनाया,और ये सभी कदम चीन के लिए मालदीव की ओर से चेतावनी है कि वो अपना मित्र राष्ट्र चुन चुका है।

हालांकि, मालदीव पर चीन का कई हज़ार करोड़ का कर्ज है, लेकिन इसी चंगुल से बचने के लिए मालदीव भारत की ओर तेजी से हाथ बढ़ा रहा है और भारत के साथ अपने रिश्ते मजबूत कर रहा है।जिससे भारत को भी फायदा होगा.

गौरतलब है, कि भारत में विपक्षी पार्टियां लगातार प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को उनके विदेशी दौरों के लिए निशाने पर लेती रही है..पर हम सब के लिए बहुत बड़ी बात है कि हमारे देश के pm को दूसरे देश एक उभरते हुए लीडर के तौर पर देख रहे है..और इसी वजह से हमारे देश का नाम चारों तरफ गूँज रहा है,आलोचना करने वाले तो आलोचना करते ही रहते है पर इस बीच एक और पुरस्कार मिलना भारत के लिए और भारत कि जनता के लिए एक बहुत बड़ा प्राउड मोमेंट है