पप्पू यादव का बंगला बन गया खंडहर! तोड़ फोड़ के बाद मचा बवाल

37

टोटी चोर की कहानी तो अपने सुनी ही होगी.. अब बँगलातोड़ नेता जी भी सामने आ गये हैं. कमरे से खिड़की उखाड़ ली गयी, दरवाजे तोड़ दिए गये.. दीवारों से टाइलें निकली गयी , बिखरे हुए फर्नीचर, खंडहर में तब्दील हुए बरामदे,  उस बंगले की ताजा तस्वीर का हिस्सा हैं. जो कभी नेता जी का ठिकाना हुआ करता था.लुटियन दिल्ली स्थित बलवंत राय मेहता लेन के 11 ए नंबर बंगले का नजारा युद्ध क्षेत्र की किसी इमारत में मची तबाही जैसा हो गया जिसमें कभी सांसद जी निवास किया करते थे.. पूर्व सांसद पप्पू यादव जी उर्फ़ राकेश रंजन!

  आइये अब हम आपको समझाते हैं कि आखिर पूरा मामला क्या है? हाल ही में लोकसभा चुनाव के बाद संपदा निदेशालय ने 230 पूर्व सांसदों को बंगले खाली करने के नोटिस जारी किए थे. अक्टूबर के पहले सप्ताह तक बंगले खाली नहीं करने वाले लगभग 50 सांसदों को कारण बताओ नोटिस जारी कर तीन दिन में जवाब तलब किया गया था. इस सूची में पप्पू यादव और उनकी पूर्व सांसद पत्नी रंजीत रंजन भी शामिल थी. सुपौल से पूर्व सांसद रंजीत रंजन को बलवंत राय मंहता लेन में ही सात नंबर बंगला आवंटित है. पिछले सोमवार को निदेशालय ने नोटिस का जवाब नहीं देने वाले 40 पूर्व सांसदों के बंगले बलपूर्वक खाली कराने की कार्रवाई शुरु कर दी है. निदेशालय के एक अधिकारी ने बताया कि पप्पू यादव और उनकी पत्नी ने एक सप्ताह में आवास खाली करने की सूचना दी थी, इसलिए बलपूर्वक आवास खाली कराने वालों की सूची में उनका नाम नहीं है. 

हालाँकि बंगले में बड़े पैमाने पर तोड़ फोड़ हुई है. टाइल्स दरवाजे और खिड़कियाँ उखाड़ी गयी हैं..इसके पीछे क्या कारण थे.. मिली जानकारी के अनुसार पप्पू यादव ने अपने बंगले के अंदर कुछ अतिरिक्त निर्माण करवाए हुए थे.. यहाँ लगभग 300 लोगों के रुकने की व्यवस्था थी.. पप्पू यादव से जुड़े लोगों का कहना है कि यहाँ तो बिहार से आये बीमार लोगों के रुकने की व्यवस्था की गयी थी. हालाँकि अधिकारीयों का कहना है कि बंगले में की गई तोड़फोड़ से सीपीडब्ल्यूडी का कोई संबंध नहीं है लेकिन बंगले के कब्जे के  समय इस पर संज्ञान लेकर नियमानुसार कार्रवाई की जाएगी..


पप्पू यादव के बंगले में की गयी तोड़ फोड़ उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव की याद दिला दी.. जब अखिलेश यादव अपना बंगला खाली कर रहे थे तो उस आलिशान से दिखने वाले बंगले को खंडहर में तब्दील कर दिया था.. आरोप लगे थे कि अखिलेश यादव ने टोटी तक निकलवा लिए थे.. इसीलिए विपक्षी दलों ने एक नाम इजात किया था जोकि टोटी चोर था…अब पप्पू यादव के बंगले में की गयी तोड़फोड़ से उन्हें भी कुछ इसी तरह की संज्ञा मिल रही है.