देखें VIDEO, कैसे नदी में बह रही बच्ची को बचाया

120

जिस जम्मू कश्मीर में सेना के जवानों पर अलगावादी नेता सियासत करने से नहीं थकते..और
तो पत्थर बाजों को उसकाते है की जवानों के खिलाफ वो पत्थर बाज़ी करें.उन्हें सेना
की जवानों का ये वीडियो देखना चाहिए ,कि कैसे वो अपनी जान पर खेल के हमेशा लोगों
के लिए खड़े रहते है ..पर फिर भी सुरक्षाबलों पर सियासत के चलते अलगाववादी
पत्थरबाजी करते हैं,और दूसरों को भी उसकाते है ..हमारे कुछ भी बोलने और बताने से पहले
ये वीडियो आप खुद ही देखिये

ये वीडियो जम्मू कश्मीर के बारामूला का है ,जब नदी में डूब रही 14 साल की एक लड़की को बचाने के लिए सीआरपीएफ के दो जवानों ने अपनी जान की बाजी लगा दी। बच्ची तेज धार में बह रही थी,लड़की को देखकर बिना कुछ सोचे समझे सीआरपीफ कॉन्स्टेबल एमजी नायडू और कॉन्स्टेबल एन उपेंद्र नदी में कूद पड़े।

वायरल विडियो में दिख रहा है कि लड़की तेज धार में बह रही थी इसी बीच सीआरपीएफ के कुछ जवान नदी की तरफ दौड़ते दिखते हैं। दो जवान तुरंत नदी में कूद जाते हैं और बाकी जवान बाहर से उनकी मदद करते हैं। और आखिरकार एक-दूसरे की मदद से वे लड़की की जान बचाने में सफल हो जाते हैं.

वैसे आपको बता दे की सीआरपीएफ ने अपने ऑफिशल ट्विटर अकाउंट से भी इस विडियो को शेयर किया है। 23 सेकंड के इस विडियो को शेयर करते हुए सीआरपीएफ ने लिखा है, ‘176 बटालियन के कॉन्स्टेबल एमजी नायडू और कॉन्स्टेबल एन उपेंद्र ने नदी में डूब रही 14 साल की एक लड़की को बचाया..और आगे वो इन जवानों की तारीफ करते हुए लिखते है कि ‘इन वीर जवानों ने कुछ सोचा नहीं। तेज धार में बस कूद पड़े। इस बेजोड़ साहस और टीम भावना से कश्मीर में एक लड़की की जान बच गई।

इस वीडियो को रीट्वीट करते हुए नेता और कवि कुमार विश्वास ने लिखा, ‘तुम्हारे दिल की चुभन भी जरूर कम होगी, किसी के पांव से कांटा निकाल कर देखो.’ऐसा पहली बार नहीं है,

खैर कहना गलत नहीं होगा कि सीआरपीफ के जवान हमेशा कश्मीरियों की मदद के लिए आगे ढाल बनकर खड़े ही रहते है. एक सिपाही अपनी ड्यूटी हमेशा निभाता ही रहता है.चाहे उसके लिए कोई भी दिन हो,वो अपने काम से कभी भी पीछे नहीं हटता..और ऐसे कई एक्साम्प्ल्स हम देख भी चुके है.. देश की दुश्मनों से रक्षा करना हो या आतंकियों को हर वक्त मुह थोड जबाव देना हो कहना गलत नहीं होगा की ,हमारी  सेना के जवानों की काबलियत का लोहा पूरी दुनिया मानती है…और सेना का जवान भले ही ड्यूटी पर हो या न हो लेकिन मुसीबत देख वो कभी भागता नहीं है…बल्कि डट के उसका सामना करता है..और तो और  देश की रक्षा करने के साथ साथ अगर कोई मुसीबत में भी फंसा हो तो उसकी मदद के लिए भी जवान हमेशा तैयार रहते है.