ऐसे बच सकते है आप अपना चालान कटवाने से

2353

क्या आपकी जेब ढीली हो रही है? अगर आप ट्रैफिक नियमों का पालन नही करते है तो जेब ढीली होना तो लाज़मी सी बात है. नए मोटर व्हीकल एक्ट 1 सितंबर से लागू हो गया है और इस एक्ट को लेकर लोगों के मन में डर भी पैदा हुआ है. नए मोटर व्हीकल एक्ट के लागु होने के बाद ट्रैफिक नियमों को तोड़ना लोगों पर भारी पड़ने लगा है. इस एक्ट के तहत अगर कोई शख्स ट्रैफिक नियम तोड़ेगा तो उससे भारी जुर्माना देना पड़ रहा है. ट्रैफिक पुलिस भी मुस्तैदी के साथ नियमों का पालन करवा रही है. कई जगह में लोगों से ट्रैफिक नियम तोड़ने पर भारी चालान भी वसूला गया है. पुलिसकर्मी अपने अधिकारों का प्रयोग कर आपका चालान कर रहे हैं लेकिन क्या आप जानते है कि आपके पास भी कई अधिकार हैं जो सरकार द्वारा दिए गए हैं? नही जानते हैं तो चलिए हम आपको बताते हैं. शायद इन अधिकारों को जानने के बाद और थोड़ी सी सावधानी अगर आपने बरती तो आपका चालान नही होगा! कौन से अधिकार हैं और आपके पास और क्या सावधानियां है आइये जानते हैं.

ट्रैफिक नियमों को फॉलो करना जरुरी है लेकिन नियमों का हवाला देकर ट्रैफिक पुलिस आपको परेशान नहीं कर सकती. ट्रैफिक पुलिस आपसे गलत व्यवहार नहीं कर सकती. इसके साथ ही आपको भी अपने अधिकारों का पता होने चाहिए. जिस तरह से आपको ट्रैफिक नियम फॉलो करने है, उसी तरह से ट्रैफिक पुलिस के जवानों भी उनके नियम फॉलो करने है. उदाहरण के लिए हर ट्राफिक पुलिस जवान को उनकी यूनिफार्म में रहना जरुरी है. यूनिफार्म में उसका बक्कल नंबर और नाम होना चाहिए. अगर ट्रैफिक पुलिस के पास ये दोनों ही न हो तो आप उनसे उनका पहचान पत्र दिखाने को बोल सकते है. ट्रैफिक पुलिस अगर अपना पहचान पत्र दिखाने से मना करता है तो आप अपनी गाड़ी के दस्तावेज उसे न दें. आपको बता दे कि ट्रैफिक पुलिस के जवान जबरदस्ती आपकी गाड़ी की चाबी नहीं निकाल सकते और आपके साथ किसी भी तरह की बदतमीजी नहीं कर सकते. वही आपको भी ट्रैफिक पुलिस के साथ बहस करने से बचना चाहिए.

आपकी गाड़ी सड़क के किनारे खड़ी है तो क्रेन उसे तब तक नहीं उठा सकती, जब तक आप गाड़ी के अंदर बैठे हों. अगर आपकी गाड़ी गलत जगह और गलत तरीके से पार्क है, तभी आपकी गाड़ी उठाई जा सकती है. सबसे अहम बात जो आपको ध्यान रखनी है वो ये कि अगर ट्रैफिक पुलिस ने आपको रोका है और आपका चालान कर रहे हो तो, उनके पास चालान बुक या ई-चालान होना चाहिए. इसके बिना वो चालान नहीं कर सकते. अगर ट्रैफिक नियमों को तोड़ने पर ट्रैफिक पुलिस आपको हिरासत में लेती है, तो हिरासत में लेने के 24 घंटों के अंदर उन्हें आपको मजिस्ट्रेट के सामने पेश करना जरूरी है. अगर आपके साथ ट्रैफिक पुलिस गलत व्यवहार करती है तो आप इसकी written complain कर सकते है. चालान कटने के बाद भी अगर पुलिस आपके साथ गलत व्यवहार करती है तो तब भी आपके पास उनके खिलाफ शिकायत करने का अधिकार है. इसके साथ ही आपको भी ट्रैफिक पुलिस के साथ सम्मानजनक व्यवहार करना चाहिए. अगर आप बदतमीजी से पेश आते हैं तो ट्रैफिक पुलिस आपके चालान में एक और ऑफेंस जोड़ सकती है. अगर आप इन सभी बातो का ध्यान रखेंगे और सभी ट्रैफिक नियमों को फॉलो करेंगे तो आप चालान देने से बच सकते है.