लोगों से नज़रें चुराते घर पहुंचा अजि’तेश का परिवार तो सा’क्षी के पिता ने कहा ये

एक लगभग एक हफ्ते बाद भी साक्षी मिश्रा और अजितेश की लव मैरिज पर खड़ा हुआ बवाल थमने का नाम नहीं ले रहा. अभी भी इस मुददे पर चर्चाओं का बाज़ार गर्म है. बखेड़ा खड़ा होने के बाद से आज शनिवार को अजितेश के परिजन वापस से अपने घर बरेली पहुंचे. अजितेश के दादा-दादी और बहन जब कार से यहां पहुंचे तो उन्हें आस-पड़ोस के लोगों से नज़रे चुरा कर चुपचापते हुए अपने घर में दाखिल होने पड़ा, जिसके बाद वो दुबारा बाहर दिखाई ही नहीं पड़े. वहां घर के पास मौजूद मीडिया ने परिवार वालों से घर के अंदर घुसते वक्त कुछ सवाल पूछने की कोशिश की, लेकिन उन्होंने किसी से बात नहीं की.

इससे एक दिन पहले ही साक्षी मिश्रा के विधायक पिता राजेश मिश्रा ने पहली बार इस मुददे पर बात कर अपनी चुप्पी तोड़ी. बरेली से बीजेपी विधायक राजेश मिश्रा ने इस मामले पर बोला तो उनका दर्द साफ छलक आया, पिता ने कहा कि मैं घर से बाहर नहीं निकलना चाहता हूं. इस घटना से मुझे आहात पहुंचा है, इस सदमे से उभरने में मुझे और मेरे परिवार को काफी वक्त लगेगा.

आगे उन्होंने ये भी बात ज़ाहिर की कि किस तरह से कुछ नेताओं और अधिकारियों ने इस मुद्दे के बाद मेरी छवि खराब करने की हर कोशिश की है. ये करने की मुख्य वजह मेरा राजनीतिक करियर खत्म करने था.

जब पिता से बेटी के बारे में पूछा गया तो राजेश मिश्रा ने कहा कि बेटी के लिए क्या बोलूं,ये घटना मेरे पूरे परिवार के लिए बेहद दुखद है. मैं विधायक हूँ मुझे विधानसभा सत्र में होना चाहिए था लेकिन मैं घर से भी बाहर नहीं निकलना चाहता हूं.

उन्होंने इस पूरी घटना के पीछे अपने राजनीतिक विरोधियों का हाथ बताया और कहा कि अजितेश को मेरे परिवार के खिलाफ बोलने के ‌लिए उकसाया गया. गौरव अरमान के साथ ही दो वरिष्ठ नेता अजितेश और उसके परिवार की इस मामले में सहायता कर रहा है.

बेटी का वीडियो वायरल होने के सवाल पर बीजेपी विधायक ने कहा कि उनकी बेटी पर वीडियो बनाने का दबाव बनाया गया था. नौकरशाह की पत्नी ने साक्षी पर ऐसा करने के लिए काफी दबाव बनाया था. महिला ने राजनीतिक फायदे के चलते साक्षी को मेरे और परिवार के खिलाफ बोलने के लिए मजबूर कर दिया. मैंने तो साक्षी को कुछ बोला ही नहीं था तो फिर वह ये वीडियो क्यों बना और मीडिया को क्यों सौंपा गया.