जिस बेटी ने बाप को किया दुनियां में बदनाम, उसी बाप ने किया ऐसा काम

32350

आपने वो कहानी तो सुनी ही होगी जिसमें राजा जनक को हल चलाते हुए एक मिटटी के घड़े में नवजात सीता मिली थी, राजा जनक ने अपनी बेटी के स्वयंबर के लिए परशुराम के गुस्से को भी सहा, ये रामायण की कहानी है, ये एक पिता और पुत्री के आदर्श रिश्ते की कहानी है ये त्रेता युग की कहानी है जिसमें सीता ने भी अपना पुत्री धर्म बखूबी निभाया.

ऊपर मैंने आपको जो कहानी सुनाई वो दिखाती है कि एक बाप अपनी बेटी के लिए कितना कुछ करता है, लेकिन क्या हो जब बेटी ही अपना धर्म भूलकर पिता के प्यार का इनाम बदनामी करके दे.

Source- TV9 bharatvarsh

बरेली के विधायक पप्पू भारतोल के साथ भी कुछ ऐसा ही हुआ था, जब उनकी बेटी साक्षी ने उनके प्यार को भुलाकर पूरे देश के सामने उनको बदनाम करने की कोशिश की, घर से अपने प्रेमी के साथ भागी साक्षी ने मीडिया में जाकर अपने परिवार की इज्जत को भी खूब नीलाम किया, ये सब देखने के बाद हर बाप शायद यही दुआ कर रहा था काश ऐसी बेटी पैदा ही न हो,

जिस बाप को साक्षी ने पूरी दुनिया के सामने विलन बनाने की कोशिश की उसी बाप ने अब ऐसा काम किया है जिसको सुनकर आप की आँखों में ख़ुशी के आसू उतर आयेंगे.

पप्पू भारतोल उर्फ़ राजेश मिश्रा ने शमशान में मिली एक नवजात बच्ची को गोद लिया है जिसकी कहानी सुनकर लोग भावुक हो रहे हैं.
उस नवजात का नाम उन्होंने सीता रखा है।

जिस पिता को टीवी पर बैठकर साक्षी कोस रही थी और जिस बाप को कुछ दोगले पत्रकार पानी पी पी कर गालियाँ दे रहे थे. जिस परिवार के मुखिया को सरेआम TV रुलाया गया और जब वो टूट गया तब ये कहा गया कि वो अपनी बेटी के साथ अन्याय कर रहा है उसी इंसान ने शमशान में मिली मासूम को अपनाया है. अब जरा आप खुद सोचिये क्या इतने सौम्य ह्रदय वाला पिता कभी अपनी बेटी का बुरा चाहेगा ?

दरअसल 12 अक्टूबर को बरेली में एक नवजात की जन्म से पहले मौत हो गयी, जब परिवार और मोहल्ले के लोग उस बच्ची को दफनाने के लिए श्मशान में गड्ढा खोद रहे थे तभी उन्हें वहीँ गड्ढे में एक और नवजात दिखाई दी, वो नवजात जिन्दा थी. किसी चमत्कार की तरह एक जिंदगी शमशान में दफन होने जा रही थी तो दूसरी जिन्दगी एक नये जीवन की तलाश में सांसे ले रही थी. वहां मौजूद लोगों ने उस बच्ची को वहां से उठाया और तुरंत अस्पताल लेकर गए.

इस बच्ची की चर्चा हर किसी की जुबान पर है , हर कोई ये जानना चाहता है बच्ची अब किस हाल में है,

लोग बड़ी तादात में बच्ची को देखने के लिए जिला अस्पताल पहुच रहे हैं.

बच्ची के इलाज के दौरान विधायक पप्पू भर्तौल ने ये इच्छा जाहिर की है कि वो इस बच्ची को गोद लेना चाहते हैं और बेटी बचाओ अभियान के तहत इस नवजात की जिम्मेदारी उठाना चाहते है उनके इस कदम की हर कोई तारीफ कर रहा है, हो भी क्यूँ न, एक टूटा हुआ बाप दुनिया को ये दिखाना चाहता है कि एक बेटी और बाप का रिश्ता कितना खुबसूरत होता है,

Source- TV9 bharatvarsh

साक्षी मिश्रा ने जिस बेशर्मी से आजादी के नाम पर घरवालो के खिलाफ गंदगी फैलाई थी, वो हम सब जानते हैं. जिस बाप को कथित बड़े पत्रकारों ने TRP के लिए विलेन बना दिया था अब उसके इस अच्छे काम को बताने में उनको शर्म क्यूँ आ रही है.