17 साल बाद आज मिला कारसेवकों को न्याय, गोधरा काण्ड के आरोपी को मिला आजीवन कारावास

0
83

27 फरवरी 2002 का दिन हिंदुस्तान के इतिहास में काले रंग में दर्ज हो चुका वो मनहूस दिन है जब अयोध्या से अहमदाबाद जा रही साबरमती एक्सप्रेस में सवार 59 मासूम निर्दोष लोगों को जिन्दा जला दिया गया था.. आज 17 साल बाद हादसे में मारे गए इन लोगों को न्याय मिला होगा, गोधरा काण्ड का साजिशकर्ता, इसका मुख्यारोपी याकूब
पातडिया जो 16 साल तक क़ानून के शिकंजे से बचा रहा.. छिपा रहा.. और आखिरकार पिछले साल 2018 में पकड़ा गया.. आज इसे आजीवन कारावास की सजा सुना दी गई है.

YAKUB PATADIYA

याकूब अब्दुल गनी पातडिया साबरमती एक्सप्रेस के एस 6 कोच पर पथराव और तोड़फोड़ कर 140 लीटर पेट्रोल इकठ्ठा कर उसे जलाने की साजिश में शामिल था, जिस पर आज उसे भारतीय दंड संहिता की धारा 302, 120बी,149 तथा रेलवे एक्ट व डेमेज पब्लिक प्रोपर्टी एक्ट के तहत दोषी मानते हुए आजीवन कैद की सजा सुना दी गई। इस पूरे मामले को एक सोची समझी साजिश के तहत अंजाम दिया गया था जिसमें 100 से भी ज्यादा आरोपियों के नाम दर्ज हुए थे उनमे से 11 को फांसी और 20 लोगों को आजीवन कारावास दिया गया

S6 Coach of Sabarmati Express

17 साल पहले हुई उस घटना का साक्ष्य यानि साबरमती एक्सप्रेस का वो S6 कोच जो गवाह है उस दिन हुई बर्बरता का आज भी गोधरा स्टेशन पर वीराने में पड़ा अपनी कहानी खुद कहता हुआ दिखाई देता है.. उसी गोधरा काण्ड पर ख़ास देखिये the chaupaal का यह वीडियो