पाकिस्तानी मूल के गृहमंत्री को हटा कर भारतीय मूल की प्रीती बनी इंग्लैण्ड की नयी गृहमंत्री

824

यूनाइटेड किंगडम के नए प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन ने सत्ता संभाला और नए मंत्रिमंडल का गठन किया . नए मंत्रिमंडल में भारतवंशियों का जलवा है . भारतीय मूल के प्रीटी पटेल, आलोक शर्मा और ऋषि सुनक को बड़ी और अहम् जिम्मेदारियां मिली है .

पहले बात प्रीती पटेल की. प्रीती पटेल को बोरिस जॉनसन की सरकार में गृहमंत्री बनाया गया है, पहले गृह मंत्रालय पाकिस्तानी मूल के साजिद जाविद के पास था .लेकिन साजिद जाविद को अब वित्त मंत्री बनाया गया है . गुजराती मूल की प्रीती पटेल का जन्म यूनाइटेड किंगडम में ही हुआ . 60 के दशक में उनके माता –पिता ब्रिटेन आ कर बस गए थे . टेरेजा सरकार में प्रीती पटेल इंटरनेशनल डेवलपमेंट सेक्रेटरी के पद पर थी लेकिन छुट्टी मनाने के लिए इजराइल गई प्रीती ने जब वहां के प्रधानमंत्री से मुलाक़ात की तो उन्हें उनके पद से हटा दिया गया . उनपर आरोप लगाया गया कि उन्होंने अपनी व्यक्तिगत यात्रा के दौरान बिना किसी को बताये वहां के राष्ट्राध्यक्ष और अधिकारियों से मिली . प्रीती पटेल इजरायल की समर्थक रही है . इंटरनेश्नल डेवलपमेंट मंत्री के तौर पर ब्रिटेन द्वारा विकासशील देशों को दी जाने वाली आर्थिक मदद का काम वही देख रही थीं.

प्रीती पटेल

प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन की तरह ही गृहमंत्री प्रीती पटेल दक्षिणपंथी विचारधारा की मानी जाती है .चुनाव प्रचार के दौरान उन्होंने ब्रिटेन गौरव और कंजर्वेटिव पार्टी गौरव जैसे नारों को खूब उछाला था . प्रीती पटेल ब्रेग्जिट की मुखर समर्थक हैं . उन्होंने ब्रेग्जिट के समर्थन में कई रैलियों को संबोधित भी किया है . समलैंगिक जोड़ों की शादी को वैध दर्जा दिए जाने का उन्होंने विरोध किया था . ब्रेग्जिट पर चले अभियान के दौरान उन्होंने “सेव ब्रिटिश करी” का नारा दिया था .उनका मानना था कि ब्रिटेन जब यूरोपियन यूनियन से बाहर आ जायेगा तो इमिग्रेशन सिस्टम को भेदभाव रहित बनाया जा सकेगा . इंग्लैण्ड में स्थित भारतीय रेस्टोरेंट में भारतीय शेफों की कमी को पूरा किया जा सकेगा .

प्रीती पटेल भारत समर्थक मानी जाती हैं .जब पीएम मोदी ब्रिटेन की यात्रा पर गए थे तो प्रीती ने ही उनकी यात्रा का प्रभार संभाला था . लंदन में भारतीय समुदाय के बीच वह प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के समर्थक के तौर पर काफी लोकप्रिय हैं। भारतीय समुदायों के सभी कार्यक्रमों में वो बतौर अतिथि हिस्सा लेती रही हैं .

भारतीय मूल के ही सांसद आलोक शर्मा को अंतरराष्ट्रीय विकास का राज्यमंत्री बनाया गया है . आगरा में जन्मे आलोक 5 वर्ष की उम्र में ही अपने माता पिता के साथ ब्रिटेन आ गए थे . आलोक एक चार्टर्ड एकाउंटेंट हैं और राजनीति में आने से पहले 16 साल तक बैंकिंग सेक्टर में काम कर चुके हैं. 2010 से ही वो रीडिंग वेस्ट संसदीय क्षेत्र का प्रतिनिधित्व कर रहे हैं . 2017 में उन्हें हाउसिंग मंत्रालय की जिम्मेदारी मिली थी . 2018 में वो रोज़गार मामलों के राज्यमंत्री बनाए गए थे .

ऋषि सुनक

भारतीय मूल के ही ऋषि सुनक को ट्रेजरी मिनिस्टरी में मुख्य सचिव की जिम्मेदारी मिली है . इसके अलावा वो सरकार में जूनियर लोकल मंत्री हैं. उनके पास सोशल केयर समेत कई ज़िम्मेदारियां हैं.