G-7 में ट्रम्प को पीएम मोदी का करारा जवाब, कश्मीर पर नहीं चाहिए किसी की मध्यस्थता

1139

कश्मीर से अतिकाल 370 हटने के बाद पहली बार प्रधानमंत्री मोदी और अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प की मुलाक़ात G-7 के मंच पर हुई. इस मुलाक़ात में पीएम मोदी ने डोनाल्ड ट्रम्प को दो टूक शब्दों में कह दिया कि कश्मीर पर विवादों को भारत और पाकिस्तान आपस में सुलझा लेंगे. इसमें किसी भी देश को मध्यस्थता की जरूरत नहीं है. ना पहले हमने किसी को मध्यस्थता करने को कहा है और न आगे कहेंगे. ट्रंप ने भी उनकी बात का समर्थन करते हुए कहा कि पीएम मोदी पर उन्हें पूरा भरोसा है.

इससे पहले ट्रम्प ने कहा – “हमने पिछली कश्मीर मसले पर बात की. पीएम मोदी ने कहा कि चीजें पूरी तरह नियंत्रण में हैं. मुझे उम्मीद है कि वे कुछ अच्छा करने में कामयाब होंगे. जो बहुत अच्छा होगा. पीएम मोदी के साथ हमने बीती रात कश्मीर पर चर्चा की है. मुझे उम्मीद है कि भारत और पाकिस्तान मिलकर समस्याओं को सुलझा लेंगे.“

हाल के समय में ट्रंप दो बार कश्मीर के मुद्दे पर मध्यस्थता करने की पेशकश कर चुके हैं. लेकिन भारत ने ऐसे किसी कदम का विरोध करते हुए इसे भारत और पाकिस्तान के बीच का मुद्दा बताया है. पीएम मोदी और ट्रम्प के मुलाक़ात का पाकिस्तान में बहुत बेसब्री से इंतज़ार हो रहा था. पाकिस्तान को उम्मीद थी कि ट्रम्प मोदी से कश्मीर के मुद्दे पर कुछ कहेंगे लेकिन जिस तरह का नर्म रुख ट्रम्प का था इस मुद्दे पर, उसे देख कर पाकिस्तान को बहुत मायूसी होगी.

दुनिया भर के देशों से निराशा झेल रहे पाकिस्तान को ट्रम्प से ही सबसे ज्यादा उम्मीद थी लेकिन अब वहां से भी उसकी उम्मीद टूट चुकी है. समय समय पर पाकिस्तान को खुश करने के लिए ट्रम्प कश्मीर पर बयान देते रहते हैं और पाकिस्तान उन्ही बातों के जरिये हसीन सपने देखने लगता है.