लाल किले से प्रधानमंत्री मोदी ने इन बड़े मुद्दों का किया जिक्र! 370 से लेकर आम लोगों के काम की बात तक

677

पूरा भारत आज आजादी के 73वीं साल का जश्न मना रहा है. इस उपलक्ष्य पर प्रधानमंत्री मोदी ने लालकिले से देश को संबोधित किया है. अपने छठे संबोधन में प्रधानमंत्री मोदी ने जल संकट, आर्टिकल 370 (Article 370), जनसंख्या विस्फोट और न्यू इंडिया के मिशन पर बात की लेकिन इसके साथ ही प्रधानमंत्री मोदी ने तीनों सेनाओं में तालमेल बिठाने के लिए ‘चीफ ऑफ़ डिफेंड’ नियुक्त करने का भी एलान किया. आइये जानते है प्रधानमंत्री मोदी के इस भाषण की 10 बड़ी बातें!

  1. प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि ये धरती हमारी मां है इसे बर्बाद करने का हक़ हमें नही है! इसे सूखा और बीमार करने का भी कोई हक़ नही है. इस दो अक्टूबर से क्या हम सिंगल यूज थैली से देश को मुक्त करने की शुरुआत कर सकते हैं. इस दो अक्टूबर को एक मजबूत कदम उठाएं. आइए हम इसे आगे बढ़ाएं. दुकानदार दुकान के बाहर लिख दें कि हमसे प्लास्टिक की थैली की मांग न करें, कपड़े का थैला लेकर आएं. वर्ना वे खुद ही कपड़े का थैला बेचना शुरू कर दें. मैं सभी दुकानदारों से आग्रह करूंगा कि दुकान पर एक बोर्ड यह भी लगाएं कि कृपया हमसे प्लास्टिक की थैली की अपेक्षा न करें. इस बार लोग दीवाली पर भी एक दूसरे को कपड़े का थैला उधार दे सकते हैं. 
  2. जनसंख्या विस्बफोट पर प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि हमारा देश उस दौर में पहुंचा है, जिनमें बहुत सी बातों को छुपाए रखने की जरूरत नहीं है. चुनौतियों को स्‍वीकार करने का वक्‍त आ गया है. नफा-नुकसान की राजनीति से देश को नुकसान होता है. अब हम जनसंख्‍या विस्‍फोट की चुनौती से जूझ रहे हैं. जनसंख्‍या विस्‍फोट हमारे लिए, आने वाली पीढ़ी के लिए बड़ा संकट बनकर उभर रहा है. छोटा परिवार रखने वाले एक तरह से देशभक्‍ति की अभिव्‍यक्‍ति करते हैं. किसी भी शिशु के आने से पहले हम सोचें कि क्‍या उसकी जरूरत पूरी करने में हम सक्षम हैं कि नहीं.
  3. आधारभूत योजनाओं पर बोलते हुए प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि “हमारा देश आगे बढ़े, उसके लिए इक्रीमेंटल प्रोग्रेस करनी होगी. कोई कुछ भी लिखे, लेकिन सामान्‍य मानवी का सपना अच्‍छी व्‍यवस्‍था से पूरा होता है, हमने तय किया है कि इन कालखंड सौ लाख करोड़ रुपये आधुनिक इंफ्रास्‍ट्रक्‍चर में लगाए जाएंगे. आज वक्‍त बदल चुका है. लोग रेलवे स्‍टेशन से संतुष्‍ट नहीं है. वह पूछता है वंदे भारत एक्‍सप्रेस हमारे यहां कब से शुरू होगा. रेलवे स्‍टेशन से लोग संतुष्‍ट नहीं हैं, अब लोग एयरपोर्ट की बात करने लगा है. पहले लोग मोबाइल फोन की बात करते थे, बाद में डेटा स्‍पीड की चर्चा होने लगी , फिर प्‍लान पर चर्चा होने लगी. यही आकांक्षी भारत है. 5 ट्रिलियन डॉलर इकोनॉकी का हमने सपना संजोया है. कइयों को यह मुश्‍किल लगता है, लेकिन मुश्‍किल काम नहीं करेंगे तो देश आगे कैसे बढ़ेगा.”
  4. आर्टिकल 370 प्रधानमंत्री मोदी ने कांग्रेस पर जोरदार प्रहार किया. आर्टिकल 370 पर मोदी ने क़ज़ा कि हम न समस्‍याओं को न टालते हैं और न पालते हैं. सरकार बनने के 70 दिन के भीतर 370 और 35 A को हमने हटा दिया और संसद ने इसे दो तिहाई बहुमत से पारित कर दिया. उन्‍होंने कहा कि जो काम 70 साल में नहीं हुआ, वह 70 दिन के भीतर हुआ. कहा कि अनुच्छेद 370 को हटाने के लिए कोई प्रखर तो कोई मूक रूप से समर्थन देता रहा है.  ‘आर्टिकल 370 और 35 ए… हम न समस्याओं को टालते हैं, न समस्याओं को पालते हैं. न समस्याओं को पालने और न टालने का वक्त है. जो काम 70 साल में नहीं हुआ, वह नई सरकार बनने के 70 दिन के भीतर किया गया. हर किसी के दिल में यह बात पड़ी थी, लेकिन शुरू कौन करे, आगे कौन आए, शायद उसी की इंतजार था. इसलिए देशवासियों ने मुझे यह काम दिया. आपने जो काम दिया, उसी को करने के लिए आया. मेरा अपना कुछ नहीं है. 
  5. तीन तलाक पर प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि हमारी मुस्लिम बेटियों के सिर पर तीन तलाक की तलवार लटकी हुई थी. वे डरी हुई जिंदगी जीती थी. वे कभी भी तीन तलाक का शिकार हो सकती हैं, यह भय उनको जीने नहीं देता था. दुनिया के कई इस्लामिक देशों ने इस कुप्रथा को हमसे बहुत पहले खत्म कर दिया, लेकिन किसी ना किसी कारण से हम मुस्लिम माताओं-बहनों को हक देने से हम हिचकिचाते थे. अगर हम बाल विवाह, सती प्रथा को खत्म कर सकते हैं दहेज प्रथा के खिलाफ आवाज उठा सकते हैं तो क्या न हम तीन तलाक के खिलाफ भी आवाज उठाएं. इसलिए भारतीय संविधान की भावना का आदर करते हुए मुस्लिम महिलाओं को समान अधिकार मिले, हमने इस महत्वपूर्ण फैसले को लिया. ऐसे निर्णय राजीतिक तराजू से तौलने का निर्णय नहीं होते हैं. 

धानमंत्री ने कई ऐसी बातें कहीं जो उनसे पहली बार सुनने के लिए मिली. जिसमें जनसंख्‍य विस्‍फोट को लेकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने चिंता जाहिर की. वहीं दूसरी ओर प्रधानमंत्री ने चीफ ऑफ डिफेंस स्‍टाफ की नियुक्‍ति की भी घोषणा की, जो अपने आप में बहुत महत्‍वपूर्ण है.अपने भाषण के दौरान प्रधानमंत्री मोदी ने अनुच्छेद 370, आतंकवाद के खिलाफ लड़ाई, चीफ ऑफ़ डिफेंड, प्लास्टिक की थैली को ना कहने, डिजिटल पेमेंट, जनसंख्या विस्फोट के बारे में भी बोले. इसी के साथ तीन तलाक, वन नेशन वन इलेक्शन, जल जीवन मिशन, भ्रष्टाचार के खिलाफ लड़ाई जैसे अहम् मुद्दों पर अपनी बात राखी है.