The Print की जैनब सिकंदर को गुजरात की इतनी चिंता क्यों है ?

76

मोटर व्हीकल एक्ट 1 सितंबर से लागू हो गया है. ये तो आप सब लोगों पता ही होगा. जो लोग ट्रैफिक नियमों का पालन नही करते उन्हें परेशानी भी हो रही होगी. मोटर व्हीकल एक्ट लागु हो जाने के बाद से ही लोग ट्रैफिक नियमों का पालन भी कर रहे है. ट्रैफिक पुलिस भी मुस्तेदी के साथ नियमों का पालन करवा रही है. लेकिन क्या आपको मालूम है कि अभी भी कई ऐसे राज्य है (छत्तीसगढ़,पंजाब,राजस्थान,पुडूचेरी,मध्यप्रदेश,वेस्ट बंगाल,गुजरात) जहा मोटर व्हीकल एक्ट लागू नहीं किया गया है. इन सभी राज्यों ने अभी तक मोटर वेह्किल एक्ट में किये गए संशोधनों को लागु नहीं किया है. एक गौर करने वाली बात ये है कि ज्यादातर गेर बीजेपी शासित प्रदेश है. लेकिन The Print की एक पत्रकार जैनब सिकंदर को इस पूरी लिस्ट में सिर्फ गुजरात ही दिखा. अब इसे ऐसे बोल सकते है कि या तो उन्हें जानकारी का अभाव है या फिर वो अंधी हो गई है क्योंकि उन्हें गेर बीजेपी साशित प्रदेश दिखते ही नही है या फिर उन्हें बीजेपी के खिलाफ एजेंडा चलाना है. आइये हम आपको बताते है की पूरा मामला क्या है.

दरअसल जैनब सिकंदर ने एक ट्वीट करते हुए लिखा कि गुजरात, भारत सरकार के पसंदीदा बच्चे की तरह है और
बाकी सभी राज्यों से सौतन के बच्चों की तरह व्यवहार किया जाता है. हालांकि गुजरात में हालातों को देखते हुए वहा की सरकार ने ट्रैफिक नियमों को तोड़ने पर लगाए जाने वाले fine में 50% की कटोती कर दी है. लेकिन जैनब मोहतरमा को लगता है कि वो बीजेपी का पसंदीदा राज्य है इसलिए वहां पर ऐसा किया गया है. उन्होंने गुजरात के लिए तो बोल दिया पर उन्होंने उन प्रदेशों के लिए तो चिंता नही जताई जहा पर अभी तक एक नियम लागू नहीं हुआ है. उन्होंने ये तो नही बोला कि इन प्रदेशों में नियम क्यों नही लागू हुए? क्या उन्हें देश के लोगों की सेफ्टी की चिंता नहीं है. क्या आप सच में पत्रकार कहलाने के लायक है. आपको जानकारी इकट्ठी करने के बाद ही ज्ञान देना चाहिए क्यूंकि ऐसे कई राज्य है जिन्होंने इस मोटर व्हीकल एक्ट को अपनाने से मना कर दिया है. क्या उन्हें अपने राज्य के लोगों की सुरक्षा की चिंता नही है. उन्हें ये लगता है कि ऐसा करने से वो अपनी जनता को खुश कर रहे है. लेकिन ऐसा नही है, ऐसा करने से उन्ही के राज्य के लोगों का नुक्सान हो रहा है. हमारे देश में ट्रैफिक नियमों की सख्त जरुरत है. आप अक्सर देखते होंगे कि कुछ लोग over-speeding करके बाइक चलाते है. रोज़ आये दिन एक्सीडेंट्स के केस सामने आते है. ऐसे में ये नया मोटर व्हीकल एक्ट सख्ती से लागू होना बहुत जरुरी है. ताकि लोगों में डर पैदा हो और वो ढंग से सरे नियमों का पालन करे.

मोहतर्मा को ये ग़लतफहमी हो गई है कि नया मोटर व्हीकल एक्ट revenue generate करने के लिए लाया गया है. बल्कि उनका मकसद लोगों की सेफ्टी का है. नए नियम लागू होने के बाद से ही देश में एक्सीडेंट की खबरे कम हो रही है. लोग fine देने के डर से नियमों का ढंग से पालन कर रहे है. कई जगहों पर जिन लोगों को इस नये कानून के बारे में पता नही है उन्हें इसके बारे बताया भी जा रहा है. कई जगहों पर लोगों की दिक्कतों को बढ़ते देख इस कानून को कुछ दिनों के लिए हटा दिया गया है. जैनब मोहतरमा हर चीज़ को अच्छे से जांच परख के ही अपने विचार सोशल मीडिया पर व्यक्त किया कीजिये नहीं तो आपके viewers आपकी गलत न्यूज़ पढ़कर भटक जाएँगे. और हर चीज़ पर सरकार को कोसने लगेंगे. जिस खबर को आप लोगों को बता रही है या तो उसके बारे में अच्छे से जानिए उसके बाद लोगों को उस बारे में बताइए नही तो चुप रहिये. कम से कम अपने viewers को mislead तो मत करिए.