अपने बच्चों से प्यार तो चुनें ‘AAP’ सरकार

141

हर आदमी में होते हैं दस बीस आदमी जिस को भी देखना हो कई बार देखना निदा फाजली का ये शेयर अज्विंद केजरीवाल पर एक दम सही बैठता है …क्योंकि उनके एक नहीं अनेक चेहरे है …ये हम कई बार देख चुके है ..चाहे डेल्ही में सरकार बनाने को लेकर उसी कांग्रेस के साथ गठबंधन करना हो..जिसकी खुलेआम बुराई करते घुमते थे… या फिर अखलेश यादव को पहले जहाँ वो करप्ट समझते है अब उनके घोटालों में नाम आने को वो मोदी सरकार की शाजिश बताने लगे….
या फिर जिन नेताओ के उपर ऊँगली उठाकर सत्ता में आये थे …अब उन्ही का हाथ पकड़ के आगे बढ़ने की सोच रहे हो . या फिर एक कार्यक्रम के दौरान सरकार पर हमला बोलते हुए ये कहना कि मै किसी भी हद तक जा सकता हूँ मोदी और अमित शाह को हराने के लिए ..ये तो कुछ चुनिदा बातें है जो हम आपको बता रहे है …लेकिन इस बार तो सरकार को घेरने के चक्कर में वो लोगों की देश भक्ति के उपर तक पहुच गये ….नहीं विश्वास है तो खुद देख लीजिये उनका

दरअसल केजरीवाल और उप-मुख्समंत्री मनीष सिसोदिया ने स्कूलों में बने…नए क्लासरूम के निर्माण कार्य का उद्घाटन करने गए थे .. और यह वो एजुकेशन पर बात करने के वजह राजनीती पर उतर आये …इस मौके केजरीवाल ने अभिभावकों को एड्रेस करते हुए कहा कि लोकसभा चुनाव नज़दीक आ रहे हैं…. ऐसे में उन्हें ‘देशभक्ति’ या फिर ‘मोदीभक्ति’ में से किसी एक को चुनना है…. और कहा कि मोदी जी ने जनता के लिए एक भी स्कूल नहीं बनवाए हैं…कि ऐसे में या तो आप देशभक्ति कर सकते हैं या फिर मोदी-भक्ति। लेकिन दोनों एक साथ मुमकिन नहीं है….उनकी इसी बात को जोर देते हुए…मनीष सिसोदिया ने भी खा घर जाकर अपने माता-पिता से यह जरूर पूछें कि वो उनसे प्यार करते हैं या नहीं… अगर वो जवाब में हाँ कहते हैं तो उन्हें बोलें कि वोट उन्हीं को दें.. जो हमारे लिए स्कूल बना रहे है ….

देशभक्ति की बात वही केजरीवाल करे है जिन्होंने सर्जिकल स्ट्राइक पर भी सवाल उठाये थे …लेकिन आम जनता ने इन्हें अपनी तरफ बखूबी जवाब दिया है … अब ये केजरीवाल की पब्लिसिटी पाने की आदत है या आने वाले लोक सभा चुनावो का दवाब …ये तो वही जाने …लेकिन हम तो यही कहेंगे की ऐसी बचकाने काम अब बंद कर दीजिये ….बल्कि कम होने के नाते आपको ऐसी बातों से बचना चाहिए

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here