जेट एयरवेज के केस में नरेश गोयल के घर और ऑफिस पर ED का छापा

562

जेट एयरवेज के फाउंडर नरेश गोयल के घर और ऑफिस पर ED की छापेमारी चल रही है. दिल्ली और मुंबई में कई जगहों पर छापेमारी की जा रही है. जेट प्रिविलेज प्राइवेट लिमिटेड में एतिहाद एयरवेज के निवेश की ED जांच कर रही है. 18,000 करोड़ रुपए के फ्रॉड के मामले में सीरियस फ्रॉड इन्वेस्टिगेशन ऑफिस भी तलाशी ले रहा है. जेट एयरवेज पर 8,500 करोड़ रुपए से ज्यादा का कर्ज है. अगर कर्मचारियों की सैलरी को भी एड कर लिया जाए तो फिर ये आंकड़ा 11 हजार करोड़ के ज्यादा तक का कर्ज पहुंच जाता है.

इससे पहले नरेश गोयल से गंभीर धोखाधड़ी जांच कार्यालय ने भी पूछताछ की थी. पूछताछ में गोयल से 18,000 करोड़ रुपए के फ्रॉड के बारे में पूछा गया था. बड़े पैमाने पर अनियमिता देखने के बाद मिनिस्ट्री ऑफ़ कॉर्पोरेट ने जेट एयरवेज के मामले की एसएफआईओ को जांच करने का आदेश दिया था. नरेश गोयल ने दिल्ली हाईकोर्ट से विदेश जाने की परमिशन भी मांगी थी. लेकिन, कोर्ट ने कहा कि विदेश जाने से पहले उन्हें 18,000 करोड़ रुपए की गारंटी देनी पड़ेगी. अब खबर है कि नरेश गोयल अपनी विदेश जाने कि याचिका को वापिस लेना चाहते है. मिनिस्ट्री ऑफ़ कॉर्पोरेट ने नरेश गोयल के खिलाफ लुकआउट नोटिस भी जारी किया था.

जेट एयरवेज देश की सबसे बड़ी एयरलाइन्स में से एक थी,जो अब बहुत ही भयानक दौर से गुज़र रही है. आर्थिक स्थिति खराब होने के कारण इसका संचालन अप्रैल से बंद कर दिया गया था. इससे पहले नरेश गोयल ने एयरलाइन के चेयरमैन की पोस्ट से इस्तीफा दे दिया था. लोन रीस्ट्रक्चरिंग प्लान के तहत नरेश और अनीता ने मार्च में जेट के बोर्ड से भी इस्तीफा दे दिया था. पहले नरेश गोयल देश के 20 सबसे अमीर लोगों में भी शामिल थे. 27 साल पहले नरेश और उनकी पत्नी अनीता गोयल ने जेट एयरवेज की शुरुवात की थी.