पाकिस्तान को आतंकी देश घोषित कर सकता है भारत

103

आतंकवाद और पाकिस्तान का साथ चोली दामन के जैसा है . हमने हमेशा से ये देखा है कि कैस आतंकवाद को पनाह देकर पाकिस्तान हमेशा से नापाक हरकतें करता आया है. पुलवामा हमले के बाद पाकिस्तान ने कार्यवाई करने बात कही थी . लेकिन अब वह बात झूठी सी लग रही है . इसलिए तो भारत के विदेश मंत्रालय प्रवक्ता रवीश कुमार ने कहा कि पाकिस्तान को यह जवाब देना चाहिए कि क्यों उसके F-16 लड़ाकू विमान को मार गिराया गया? पाकिस्तान आतंकियों के खिलाफ कार्रवाई नहीं कर रहा है, केवल झूठे दावे किए हैं.

हमने देखा था कि कैसे पाकिस्तान के विदेश मंत्री कुरैशी, मसुद अजहर की वकालत करते फिर रहे थे .और यहाँ तक की ज़िम्मेदारी भी ले रहे थे कि जैश-ए-मोहब्बत ने ऐसा कुछ नहीं किया. एक तरफ तो पाकिस्तान के प्रधानमंत्री शांति और अमन का सन्देश दे कर आतंकवाद के खिलाफ कार्यवाई करने का हवाला दे रहे वही दूसरी ओर मक़सूद अजहर के बीमारी का हवाला देते है .

पाकिस्तान के इसी दोहरे रवैये से भारत ऊब चुका है. विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता ने कहा कि पाकिस्तान के विदेश मंत्रालय के अधिकारी ने अपने देश में आतंकी संगठन जैश-ए-मुहम्‍मद के ठिकानों की बात को ही नकार दिया है. इससे साफ पता चलता है कि पाकिस्तान आतंक के खिलाफ कैसा रुख रखता है. पाकिस्तान भारत और अंतरराष्ट्रीय बिरादरी की चिंताओं को दूर करने के लिए कोई काम नहीं कर रहा है. पाकिस्तान आतंकी संगठन, जैश के खिलाफ एक्शन नहीं ले रहा है.

रवीश कुमार ने कहा कि पाकिस्तान ने आतंकवाद पर केवल झूठे वादे किए हैं. उन्होंने कहा, ‘पाकिस्तान पुलवामा आतंकी हमले में जैश का हाथ होने से इनकार कर रहा है. क्या पाकिस्तान जैश के प्रवक्ता की तरह बात कर रहा है और उसे बचाने की कोशिश कर रहा है.’ आपको  बता दें कि पुलवामा आतंकी हमले की जिम्मेदारी पाकिस्तान स्थित आतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्मद ने जिम्मेदारी ली थी. उन्होंने कहा कि पाकिस्तान की आर्मी के प्रवक्ता ने मीडिया से बातचीत में कहा था कि उनके देश में जैश की मौजूदगी नहीं है, जबकि उनके विदेश मंत्री ने एक इंटरव्यू में कहा था कि उन्होंने जैश की टॉप लीडरशिप से पुलवामा हमले में शामिल होने के बारे में जानकारी मांगी है. जैश ने इसमें हाथ होने से इनकार किया है. रवीश कुमार ने कहा कि क्या पाकिस्तान के विदेश मंत्री जैश-ए-मोहम्मद के प्रवक्ता हो गए हैं.

पाकिस्तान के साथ टकराव के मुद्दे पर पूछे गए एक सवाल के जवाब में रवीश कुमार में कहा था कि भारत की तरफ से डी-ऐस्केलेश का सवाल ही नहीं है, क्योंकि भारत ने कभी ऐस्केलेट ही नहीं किया था. हमारी कार्रवाई पाकिस्तान के खिलाफ नहीं, बल्कि आतंक के खिलाफ थी. उन्होंने कहा कि पाकिस्तान भारत और अंतरराष्ट्रीय बिरादरी की चिंताओं को दूर करने के लिए कोई काम नहीं कर रहा है.

रवीश ने कहा कि भारत ने बालाकोट में असैनिक कार्रवाई की थी. उन्होंंने कहा कि भारत ने आतंकवादी ठिकानों पर हमला किया था. इसमें आम नागरिकों को कोई नुकसान नहीं हुआ था. उन्होंने कहा, ‘हमारे लड़ाकू विमानों ने अपने टारगेट को पूरा किया था.’

उन्होंने कहा कि संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद के सभी सदस्यों को जैश-ए-मोहम्मद के ट्रेनिंग कैंप और मसूद अजहर के पाकिस्तान में होने के बारे में जानकरी है और उन्होंने भारत की तरफ से संयुक्त राष्ट्र के सदस्यों से अपील की, कि मसूद अजहर को आतंकी लिस्ट में शामिल किया जाए.

बहरहाल पाकिस्तान पर पुलवामा हमले के बाद हर तरफ से आतंकवाद के खिलाफ कार्रवाई करने का दबाव बन रहा . मसलन अब पाकिस्तान को आतंकवाद के खिलफ एक ठोस कदम उठाने की जरूरत है. नहीं तो पाकिस्तान को भी एक आतंकी राष्ट्र घोषित कर दिया जाएगा.