चिदंबरम का बचाव कर रहे चार वकील में से तीन है कांग्रेस के बड़े नेता और एक हैं उनकी पत्नी!

985

पी चिदंबरम INX मीडिया में इन्वेस्टमेंट मामले में पूछताछ के लिए गिरफ्तार हो चुके हैं. बुद्धवार की देर रात सीबीआई की टीम ने चिदंबरम को गिरफ्तार किया था. इसके बाद पूछताछ के बाद इन्हें सीबीआई कोर्ट में पेश किया गया. ऐसे में आइये हम आपको बताते हैं कि वो कौन से वकील हैं जो पी चिदंबरम की मदद कर रहे हैं, या चिदंबरम का केस कोर्ट में लड़ रहे हैं.

दरअसल INX मीडिया केस में चिदंबरम की पैरवी अभिषेक मनु सिंघवी, कपिल सिब्बल, चिदंबरम की पत्नी नलिनी चिदंबरम और विवेक तन्खा जैसे सीनियर वकील कर रहे हैं. ये सारे सुप्रीम कोर्ट के दिग्गज वकीलों में से हैं.

कपिल सिब्बल : सुप्रीम कोर्ट के बड़े वकील हैं और कई सालों से प्रैक्टिस कर रहे हैं. कपिल सिब्बल के बारे में कहा जाता है कि वो अपने मुकदमे को लेकर ऐसी तैयारी करते हैं कि मरे हुए केस में भी जान डाल दें. कपिल सिब्बल के पिता भी जाने माने वकील थे. कपिल सिब्बल कांग्रेस के बड़े नेता भी हैं.

अभिषेक मनु सिंघवी : अभिषेक मनु सिंघवी वरिष्ठ कांग्रेस नेता और सुप्रीम कोर्ट के सीनियर एडवोकेट हैं. पूरा परिवार वकालत के पेशे से जुड़ा हुआ है. अभिषेक मनु सिंघवी ने अपने पिता के ऑफिस से वकालत के पेशे की शुरुआत की. सुप्रीम कोर्ट ने सिर्फ 34 साल की उम्र में उन्हें सीनियर एडवोकेट का दर्जा दे दिया था. अभिषेक मनु सिंघवी भी कांग्रेस के बड़े नेता है.

विवेक तन्खा : विवेक तन्खा सुप्रीम कोर्ट से सीनियर वकील और मध्य प्रदेश से कांग्रेस के सीनियर नेता हैं. विवेक मध्य प्रदेश से राज्यसभा सांसद हैं. विवेक तन्खा मध्य प्रदेश के सबसे युवा एडवोकेट जनरल रह चुके हैं. 1999 में हाईकोर्ट ने इन्हें सीनियर एडवोकेट का दर्जा दिया था.

नलिनी चिदम्बरम : नलिनी चिद्माब्रम सीनियर वकील है और पी चिद्माब्रम की पत्नी हैं. कई सालों से मद्रास हाई कोर्ट में नलिनी प्रैक्टिस कर रही हैं. नलिनी के पिता पीएस कैलासम सुप्रीम कोर्ट के जज रह चुके हैं. नलिनी का नाम सारदा चिट फंट घोटाले में भी आ चुका है. सीबीआई ने उन्हें 1.4 करोड़ के घूस लेने के आरोप में चार्जशीट किया हुआ है.