एम एस धोनी ने खटखटाया सुप्रीम कोर्ट का दरवाज़ा

115

आज कल हमारे देश में ठगों की संख्या काफी बढ़ गई है.. कभी नीरव मोदी सामने आ रहें है तो कभी हितेश पटेल…. और आम्रपाली बिल्डर्स तो न जाने कब से चर्चे में है . कभी फ्लैट्स टाइम पर न देने के लिए तो कभी पेपर्स को लेकर..

इसने भारत के बहुत से लोगों को ठगा है, और अब इन ठगे गए लोगों में भारतीय क्रिकेटर और पूर्व कप्तान महेंद्र सिंह धोनी भी शामिल हो गए है. उन्होंने आम्रपाली बिल्डर्स के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट का दरवाजा खटखटाया है.
बात दरअसल यह है कि आम्रपाली बिल्डर्स की ब्रांडिंग और प्रमोशन करने के बदले धोनी को आम्रपाली बिल्डर्स से 40 कड़ोर रूपए मिलने the. लेकिन उन्हें यह पैसे मिल नहीं पाए.

आपको बता दें कि 2009 में महेंद्र सिंह धोनी ने आम्रपाली बुलिदेर्स की ब्रांड प्रमोशन की शुरुआत की थी. वह इस कंपनी से 6 साल जुड़े रहे. दरअसल खैर धोनी ने 2016 में आम्रपाली बिल्डर्स का साथ छोड़ दिया था क्योंकि सोशल मीडिया पर लोगों ने इनके खिलाफ मुहिम चलानी शुरू करदी थी…

तो हुआ कुछ ऐसा था ये जो कंपनिया होती है वो अपने ब्रांड प्रमोशन बड़े चेहरों का इस्तेमाल करती हैं.. आम भाषा में अगर बोले तो celebrities का इस्तेमाल करती है जिससे लोग प्रभावित और आकर्षित होकर इसके तरफ आते हैं. तो आम्रपाली बिल्डर्स ने भारत कप्तान को चुना . महेंद्र सिंह धोनी को. धोनी की फैन following हमेशा से अच्छी रही है. इसलिए अपने ब्रांड वैल्यू को बढ़ने के लिए आम्रपाली ने इन्हें चुना.
आम्रपाली की attractive schemes और धोनी का attractive approch लोगों को आकर्षित तो कर रहा था लेकिन एक कांस्पीरेसी भी create हो रही थी .

बात दरअसल यह है कि आम्रपाली बिल्डर्स ने जितने लोगों से पैसे लिए उतने लोगों को घर नहीं दे पाए. जिसकी वजह इस रियल सताए कंपनी को फ्रॉड करार दिया गया … और अब तो इस कंपनी ने खुद को बैंक कोर्रुप्त बना लिया है .

लोगों ने 2015 -2016 के बीच इसके खिलाफ कोर्ट में याचिका दायर की और ऑनलाइन धोनी के खिलाफ मुहिम चलाई.. और धोनी से रिक्वेस्ट भी किया की वो बिल्डर्स से बात करें.

हालाँकि सुप्रीम कोर्ट इस बिल्डर के खिलाफ 46 हजार होमबायर्स की याचिका पर सुनवाई कर रहा है, जिन्हें समय पर फ्लैट नहीं दिया गया। कोर्ट इस ग्रुप की सभी संपत्तियों को जब्त करने का आदेश दिया है। धोनी भी अपने इकोनोमिकल राइट्स की रक्षा के लिए सुप्रीम कोर्ट पहुंचे हैं। धोनीस ने कोर्ट से कहा है कि उनके हितों की रक्षा के लिए इस ग्रुप के जमीन में से एक खंड उनके लिए भी निश्चित हो।

धोनी कंपनी के लिए कई ऐड विडियो में दिखते थे। उन्होंने कोर्ट से कहा है कि आम्रपाली समूह ने उनके साथ कई समझौते किए, लेकिन उनकी सेवाओं के लिए भुगतान नहीं किया। कंपनी पर उनका कुल 38.95 करोड़ रुपये बकाया है।