Cryptocurrency के बारे ये चीजें जान ले तो हो सकते हैं मालामाल

135

बीते कुछ सालों में दुनिया भर में cryptocurrency पर चर्चाएं बढ़ गई हैं. यहां भी जिसे देखो वो Cryptocurrencies के पीछे भाग रहा है. ऐसा लगता है कि आने वाले समय मे financial market में cryptocurrency का ही बोल बाला रहेगा.

है जानती हूं मामला पेचीदा है इसीलिए, सोचा की क्यूँ न आज आप लोगों को Cryptocurrency क्या है इस बारे में जानकारी दे दूँ.

तो फिर बिना देरी किये चलिए जानते हैं की आखिर ये Cryptocurrency क्या चीज़ है.

वैसे Crypto currency digital money जैसा ही होता है, क्यूंकि ये सिर्फ digital platfrom पर ही मौजूद है और  इससे हम physically लेन देन नहीं कर सकते.

source

जैसे हर देश की अपनी निर्धारित currency होती है. जैसे की भारत में Rupees, USA में Dollar और european देशों में Euro. वैसे ही Cryptocurrency को भी हर जगह इसतेमाल में लाया जा सकता है.

लेकिन यहां गौर करने वाली बात ये है कि Cryptocurrencies के ऊपर Government का कोई भी हाथ नहीं होता है क्यूंकि ये Decentrallized Currency होती हैं इसलिए इनके ऊपर कोई भी agency या सरकार या board अधिकार नहीं जमा सकते. और यही वजह है जिसके चलते इसके मूल्य को regulate नहीं किया जा सकता.

आप इसे एक तरह का Digital Asset मान सकते हैं जिसका इस्तमाल चीज़ों की खरीदारी या Services के लिए किया जाता है. इस तरह की currencies में cryptography का इस्तमाल होता है. ये cryptography एक Peer to Peer Electronic System होता है जिसका इस्तमाल हम Internet के माध्यम से regular currencies के जगह पर Goods और Services को purchase करने के लिए कर सकते हैं.

source

ये अपने तरह का एक अनोखा सिस्टम है क्योंकि ये सरकार और बैंकों को बिना बताए भी use किया जा सकता है इसलिए कुछ लोग ऐसा मानते है की Cryptocurrency का इस्तमाल गलत कामों में भी किया जा सकता है, ख़ैर ये बात तो आने वाला वक्त ही बताएगा की ये किन कामों के लिए इस्तेमाल होगा गलत या सही.

वैसे अगर हम Cryptocurrency की बात करें और Bitcoin की बात न हो तब तो ये बिलकुल भी मुमकिन नहीं है., Bitcoin भी एक तरह की cryptocurrency है इसको सबसे पहले दुनिया में डिजिटल investment के लिए एक प्रयोग के रूप में लाया गया था. ये एक De-centrallized currency है यानी Government का इसपर कोई control नही होता. अगर हम आज की बात करे तो इसकी value काफ़ी बढ़ गयी है. एक  coin का कीमत 13 लाख के करीब है. Bitcoin की सफलता के बाद इससे प्रेरित हो कर दुनिया भर में आज लगभग 1000 से भी ज्यादा Cryptocurrency मौजूद हैं. इनमे से कुछ महत्वपूर्ण हैं जो आपको मालूम होनी चाहिए.

अब बात करते हैं Litecoin की
Litecoin भी बिल्कुल bitcoin जैसा ही है ये एक open source software है जो की MIT/X11 license के अंतर्गत October, 2011 में release किया गया था इसे launch करने वाले थे Charles Lee जो की पहले एक Google Employee थे.

इसके बनने के पीछे Bitcoin का बहुत बड़ा हाथ है और इसके लगभग सारे features Bitcoin से मिलते झूलते हैं. फिलहाल ये bitcoin जितना popular नहीं है इसलिए इसमें Transaction बहुत ही जल्दी पूरे हो जातें हैं. इसमें Scrypt algorithm का इस्तमाल होता है Mining करने के लिए.

Dogecoin (Doge)
Dogecoin की बनने की कहानी काफी रोचक है. इसे Bitcoin को मजाक करने के लिए कुत्ते से उसकी तुलना की गयी जो आगे चलकर एक Cryptocurrency का रूप ले लिया. इसके Founder का नाम है Billy Markus. Litecoin की तरह ही इसमें भी Scrypt Algorithm का इस्तमाल होता है.

आज Dogecoin की Market Value है $220 million से भी ज्यादा और इसे पुरे विश्व में 200 merchants से भी ज्यादा में accept करते हैं. इसमें भी Mining दूसरों के मुकाबले बहुत जल्दी होती है.

ऐसे कई और cryptocurrencies हैं जो दिन ब दिन काफ़ी बढ़  रहीं हैं.

ये तो हो गयीं cryptocurrencies. अब इनके नफ़ा नुकसान भी जान लें.

पहली बात Cryptocurrency में fraud होने के chances बहुत ही कम हैं. ये normal digital payment से ज्यादा secure माना जाता है. दुसरे payment options के मुकाबले इसमें transaction fees भी बहुत है कम है.

लेकिन Cryptocurrency में एक बार transaction होने के बाद उसे reverse नहीं किया जा सकता है क्यूंकि इसमें वैसे कोई options ही नहीं होती है. और अगर आपका Wallet के ID खो जाती है तो उसे वापस नहीं पाया जा सकता जिस वजह से आपके wallet की राशि भी चली जाती है.

अब चुनाव आपको करना है ये आपके काम का है या नहीं, आने वाले समय मे ये माध्यम market में और भी dominant होता जाएगा. ऐसे में इसके फायदे और नुकसान का अनुमान तो नही लगाया जा सकता लेकिन इसे दरकिनार भी नहीं किया जा सकता है.