शीनू के पिता ने अपने बेटी को लेकर कह दिया इतनी बड़ी बात

15620

साक्षी मिश्रा और अजितेश ठाकुर की भाग कर की गयी शादी पर जहां पूरे देश में चर्चा और बहस छिड़ी है वहीं साक्षी के पापा ने पहली बार इस मुद्दे पर अपनी चुप्पी तोड़ी है. गुरुवार को साक्षी के पिता और बरेली से बीजेपी के विधायक राजेश मिश्रा ने इस मामले में अपनी बात रखी है. बातचीत में उनका दर्द छलक आया और उन्होंने कहा कि “मैं घर से बाहर नहीं निकलना चाहता हूं. मेरी भावनाएं आहत हुई हैं, मेरा पूरा परिवार सदमे में है.”

आजतक की एक रिपोर्ट को माने तो राजेश मिश्रा ने कहा कि बेटी के लिए क्या बोलूं, मैं उस पर कोई टिप्पणी करना नहीं चाहता हूं. इस घटना को याद करना ही मेरे पूरे परिवार के लिए दुखद है. मुझे विधायक होने के चलते विधानसभा सत्र में होना चाहिए था लेकिन मैं घर से भी बाहर नहीं निकलना चाहता हूं. उन्होंने इस पूरी घटना के पीछे विरोधियों का हाथ बताते हुए कहा कि अजितेश को मेरे परिवार के खिलाफ बोलने के ‌लिए उकसाया गया. गौरव अरमान के साथ ही दो वरिष्ठ नेता अजितेश और उसके परिवार की इस मामले में सहायता कर रहा है.

ये पहला मौका है जब विधायक की तरफ से किसी व्यक्ति पर खुला आरोप लगाया गया है. वरना अभी तक विधायक और उनका परिवार सिर्फ साक्षी और अजितेश के आरोपों को झेल रहा था. विधायक ने इस मसले पर विस्तार से बात करते हुए बताया कि जिस रात की ये घटना है उसी रात अजितेश क साथ गौरव भी आया था. घर पे कोई था नही साक्षी की माँ की तबियत ठीक नही थी. विधायक लखनऊ से बरेली के रास्ते में थे. बेटा दिल्ली के एम्स में गया हुआ था. छोटी बेटी सो रही थी उसे छोड़कर साक्षी अजितेश के साथ भाग निकली.

साक्षी के पिता ने बताया कि गौरव पहले उनके साथ ही बिजेनस करता था. अब वो उनके साथ नही है तो उन्हें बदनाम करने की कोशिश कर रहा है. उसी के दवाब में साक्षी ने वो विडियो भी उसी के दबाव में बनाया था. एक और महिला नौकरशाह है जिनकी राजनितिक महत्वाकांक्षा है वो भी अजितेश को मदद कर रही है. ये बाते बताते हुए विधायक ने बताया कि ये सब उनके खिलाफ साजिश है. अब देखने वाली बात ये है की इस मुद्दे पे अभी और क्या मोड़ आता है. क्योकि मिडिया में चर्चित होने के बाद से लोगो की नजरे इधर टिकी हुई है.

लेखक, कवि, पत्रकार, The Chaupal के सम्पादक के रूप में कार्यरत है। सोशल मीडिया पर अपने बेबाक़ राय के लिए जाने जाते है। इनकी कविताएँ और कहानियाँ समय समय पर विभिन्न पत्र पत्रिकाओं में प्रकाशित होती रहती है। शृंगार रस इनकी रचनाओं में पसंदीदा है। राजनैतिक मामलों और इतिहास के अच्छे जानकार है। अपने प्रशसंको में प्रोपेगैंडा क़िलर के नाम से मशहूर है।