हर बार हो रही इंसानियत शर्मसार

96

हमारे आस पास आय दिन हम रेप कि घटना के बारे में सुन रहे है… कभी किसी छोटे से कस्बे में तो कभी देश की राजधानी में….  कभी छोटी बच्ची के साथ तो कभी बुजुर्ग के साथ….. आखिर क्यों? और कब तक? कब तक ऐसा यूं ही चलता रहेगा?

खैर इसका जवाब तो किसी के पास नहीं है लेकिन पहल की  जा सकती है… वैसे बीते दिनों 3 साल की छोटी बच्ची ट्विंकल शरमा के साथ हुए दुष्कर्म कि वजह से जहां एक तरफ माहौल गरमाया हुआ सा है वहीँ दूसरी ओर उज्जैन और  उत्तर प्रदेश के बाराबंकी के थाना के के एक गाँव में बच्चियों के साथ हैवानियत का मामला सामने आया है…

उत्तर प्रदेश के बाराबंकी के थाना  के एक गाँव में एक  साल कि बच्ची  के साथ दुष्कर्म किया गया …दरअसल हुआ कुछ ऐसा था कि वो बच्ची बगीचे के पास खेल रही थी… उसी दौरान उसे बगीचे में ले जा कर  एक अधेड़ ने उसके साथ दुष्कर्म किया….. बुधवार को शाम 6 बजे के आस पास वह बच्ची अपने भाए बहनों के साथ खेलने घर से बहार गयी थी… इसी बीच उसी कस्बे में रहने वाला मोहम्मद सलीम कार से वहां पहुंचा और सभी बच्चों को ले जाने लगा….. बच्ची की मां ने रोका भी लेकिन कुछ देर में बच्चों को वापस छोड़ जाने की बात कह कर उन्हें लेकर चला गया….. करीब आधा घंटे बाद सलीम ने वापस सभी बच्चों को घर के पास ही उतार दिया लेकिन आठ साल की मासूम को वह अपने साथ लेता गया….. बच्ची के घर नहीं पहुंचने पर बच्ची के पिता ने पूछताछ की तो सलीम के साथ गए बच्चों ने बताया कि वह बच्ची को अपने साथ ले गया है….

रात करीब आठ बजे आठ साल की मासूम अपने घर पहुंची….. उसके कपड़ों में खून लगा हुआ था…. वह दर्द से कराह रही थी……… बच्ची ने रोते हुए अपनी मां को बताया कि सलीम ने उसे बाग में ले जा कर दुष्कर्म किया है…………इसके बाद  पिता ने थाने पहुंचकर आरोपी सलीम के खिलाफ सूचना दी…. थानाध्यक्ष दुर्गेश मिश्र ने बताया कि आरोपी के खिलाफ पाक्सो एक्ट व दुष्कर्म की धारा में रिपोर्ट दर्ज गिरफ्तार कर जेल भेज दिया है…. बच्ची का जिला अस्पताल में मेडिकल कराकर भर्ती कराया गया है…. 

वैसे यह सिलसिला थमा नहीं है… बुधवार कि इस घटना के बाद गुरुवार को पवित्र नगरी उज्जैन में एक पांच साल की बच्ची  के साथ दुष्कर्म हुआ… कहते है माँ बाप के साए में बच्चें सुरक्षित रहते है लेकिन… वहाँ तो पिता के बगल में सो रही बच्ची  को दरिंदों ने उठा कलिया और उसके साथ दुष्कर्म किया…

दरअसल हुआ कुछ ऐसा था कि बच्ची अपने पिता के पास ही साथ में सो रही थी….. रात करीब दो बजे उनकी आंख खुली, तो बच्ची गायब थी….. जिसके बाद परिवार के सभी सदस्य बच्ची को खोजने लगे. …रातभर तलाश करने के बाद भी जब वह नहीं मिली तो सुबह उन्होंने पुलिस को सूचना दी……. पुलिस ने अज्ञात आरोपी के खिलाफ मामला दर्ज कर बच्ची की तलाश शुरू की……. जिसके बाद शुक्रवार दोपहर को बच्ची का शव लालपुल के पास शिप्रा नदी में मिला…….. मौके पर पहुंची पुलिस ने पाया कि बच्ची के शरीर पर कपड़े नहीं थे और सिर पर गंभीर चोट के चार निशान थे. शव को कब्जे में लेने के बाद पुलिस ने शाम को शव का पोस्टमार्टम कराया…. पोस्टमार्टम रिपोर्ट अभी नहीं आई है, लेकिन डॉक्टरों ने बच्ची के साथ रेप की बात कही है…. पुलिस ईंट-भट्‌टे पर काम करने वालों से पूछताछ कर रही है, ताकि आरोपी का सुराग मिल सके….

ये तो थी दो घटनाए ऐसी ना जाने कितनी घटनाए है जिनसे हम बेखबर है… आय दिन घटती रहती है ऐसीघटना घटनाए…. सबसे अहम बात तो यह है कि हमेशा ऐसी वारदातों को लोग राजनीति से जोड़कर अपनी टिप्पणियां देना शुरू कर देते हैं…. आखिर आए दिन हमारे देश में ऐसा क्यों हो रहा है? हमारी समझ से भारत की कानून व्यवस्था इसके पीछे सबसे अहम भूमिका निभा रही है…. यह भारत की उदार नीति वाली कानून व्यवस्था ही है, जो ऐसे हैवानों को ऐसी नीच, घटिया और निंदनीय कांड करने को आमंत्रण देती आ रही है… जरूरत है कानून  में बदलाव की.. और व्यवथा को दुरुस्त करने कि..