पत्रकार अभिसार शर्मा ने फोटोशॉप तस्वीर शेयर कर चित्रा त्रिपाठी को किया बदनाम

107

धान मतलब गेहूं वाले पत्रकार याद हैं आपको? याद ही होंगे. अगर कोई धान मतलब गेहूं बताये तो उसे सारी ज़िन्दगी नहीं भूला जा सकता. उस महान पत्रकार का नाम है अभिसार शर्मा. हम अभिसार शर्मा का जिक्र कर रहे हैं तो इसका मतलब ये नहीं है कि आज उनके अद्भुत बयान की वर्षगाँठ या बरसी है. आज हम जिक्र इसलिए कर रहे हैं क्योंकि अभिसार ने फिर एक ऐसी हरकत की है जिसने उन्हें सरेआम शर्मसार कर दिया है. उन्होंने एक फोटोशॉप तस्वीर के आधार पर एक न्यूज रिपोर्ट बनाई और आजतक की एंकर चित्रा त्रिपाठी को बदनाम करने की कोशिश की. अभिसार ने ना सिर्फ चित्रा को बदनाम किया बल्कि सरकार पर भी सवाल खड़े किये.

अब आपको बताते हैं मामला क्या है. सोशल मीडिया पर यूजर @iAnkur Singh ने एक वीडियो शेयर किया. उस वीडियो में अभिसार शर्मा चंद्रयान की लॉन्चिंग के मौके पर चैनल आजतक के एक रिपोर्ट पर निशाना साध रहे हैं. अभिसार ने उस रिपोर्ट की एक तस्वीर शेयर की जिसपर लिखा था “अब चाँद मोदी की मुट्ठी में.” अभिसार इस तस्वीर के आधार पर कह रहे हैं कि ये चैनल प्रधानमंत्री की तौहीन कर रहे हैं लेकिन भाजपा इसपर खामोश है. एक तरह से अभिसार के कहने का तात्पर्य ये था कि चैनल मोदी के लिए काम कर रहे हैं और हर बात का क्रेडिट उन्हें ही दे रहे हैं.

ये तस्वीर दरअसल एक फोटोशॉप तस्वीर थी. असल रिपोर्ट में कार्यक्रम का हेडिंग था “अब चाँद हमारी मुट्ठी में”. इस रिपोर्ट को पेश किया था चित्रा त्रिपाठी ने . लेकिन पत्रकार अभिसार शर्मा को असल और फोटोशॉप में फर्क पता नहीं चला और फोटोशॉप तस्वीर के आधार पर ही उन्होंने सरकार, चैनल और पार्टी पर सवाल खड़े कर दिए. अब आप सोचेंगे कि अभिसार को असल और फोटोशॉप तस्वीर में फर्क क्यों पता नहीं चला. तो भाई, जिसे धान और गेहूं में फर्क पता नहीं चालता उसे असल और फोटोशोप इमेज में कैसे फर्क पता चलेगा?

लेकिन खुद को तुर्रम खान समझ कर अभिसार शर्मा ने फोटोशॉप इमेज पर ही अपना ज्ञान बघार दिया और ये साबित करने की कोशिश की कि सच्चे पत्रकार तो वही हैं. जब सच सामने आया तो सोशल मीडिया पर अभिसार शर्मसार हो गए.

चित्रा त्रिपाठी ने भी अभिसार पर निशाना साधते हुए ट्वीट किया – “मोदी विरोध में इतना गिर जायेंगे अभिसार इसकी उम्मीद नहीं थी. वैसे धान से गेहूँ निकालने वाला इंसान गर्त की पत्रकारिता ही कर सकता है. गधों की तरह बोलने के पहले फ़ैक्ट चेक करते की जो तस्वीर आप वायरल कर रहे हैं उसकी हक़ीक़त क्या है? बीमार हैं आप,अपना इलाज कराइये.”

इतनी बेइज्जती के बाद अभिसार शर्मा ने चुपचाप वो वीडियो यूट्यूब से हटा दिया. लेकिन ये बहुत गलत बात है. अब बेरोजगार पत्रकार क्या अपनी रोजी रोटी चलाने के लिए फेक रिपोर्टिंग करने का भी अधिकार नहीं रहा इस देश में?